Like and share
8

first gymnastic league from 27 march in lnipe,theinterview.in
लीग का प्री प्रोमो, वेबसाइट, पोस्टर हुआ लॉन्च

ग्वालियर.

बैडमिंटन, कबड्डी आदि खेलों की तरह ही जिमनास्टिक लीग का आयोजन एलएनआईपीई में २७ मार्च से ३१ मार्च तक किया जाएगा. लीग का आयोजन एलएनआईपीई एवं प्रो एएम के संयुक्त तत्वाधान में होगा. ये देश की पहली जिमनास्ट लीग होगी, जिसमें देश भर की विभिन्न टीम पार्टिसिपेट करेंगी. लीग का प्री प्रोमो, वेबसाइट एवं पोस्टर एलएनआईपीई में लॉन्च किया गया.

first gymnastic league from 27 march in lnipe,theinterview.in

50 क्लब करेंगे पार्टिसिपेट

कुलपति प्रो. दिलीप कुमार डुरेहा ने कहा कि जिमनास्ट लीग एक मील का पत्थर साबित होगा. इससे जिमनास्ट सीखने वाले बच्चों को एक मंच मिलेगा और उन्हें प्रशिक्षित कर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तैयार किया जाएगा. उन्होंने कहा कि यह देश की पहली लीग है जिसमें कोई अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी नहीं होंगे बल्कि देश के खिलाडि़यों को मौका मिलेगा. लीग का आयोजन 27 से 31 मार्च तक किया जाएगा. इसमें 50 क्लब पार्टिसिपेट करेंगे. इसमें मध्य प्रदेश के साथ ही ग्वालियर का भी एक क्लब शामिल होगा.

वेबसाइट की लॉन्च

education news/ indias first gymnast league start from 27 march in lnipe gwalior, theinterview.in

कृपाली सिंह पटेल, जिमनास्टिक कोच नीतू बाला ने जिमनास्ट लीग की वेबसाइट, फेसबुक, यूट्यूब पेज का प्रमोचन किया गया. इस अवसर पर कुलसचिव प्रो. विवेक पांडे, जीडी घाई आदि उपस्थित रहे.

4 लेवल पर होगा लीग का आयोजन

लीग का आयोजन ३ लेवल पर होगा. लेवल 1 में 6 से 7 वर्ष, लेवल 2 में 7 से 8, लेवल 3 में 9 से 10, लेवल 4 में 11 से 12 वर्ष के बच्चे शामिल होंगे. लीग के माध्यम से 13 वर्ष से कम बच्चों को तैयार कर उन्हें अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं के लिए तैयार किया जाएगा. इसके लिए क्लब के माध्यम से खिलाडि़यों का टैलेंट हंट किया जाएगा.

खुद का बना सकेंगे क्लब
education news/ indias first gymnast league start from 27 march in lnipe gwalior, theinterview.in
लीग में पार्टिसिपेट करने के लिए खुद का क्लब भी तैयार किया जा सकता है. इसके लिए २५०० रुपए रजिस्ट्रेशन फीस देकर क्लब गठित किया जा सकेगा. इसके बाद लगी में पार्टिसिपेट कर सकते हैं. खिलाडि़यों को क्लब द्वारा अपने स्तर पर अनुबंध करना होगा.

ये भी पढ़ें:

G.K. Important question

झोपड़-पट्टी में रहने वाला बना इसरो में वैज्ञानिक

लंदन में वड़ा पाव बेचकर हर साल कमाते हैं 4.39 करोड़

Like and share
8