Like and share
2

wrestler kavita dalal, theinterview.in

नई दिल्ली.
आज महिलाएं किसी भी क्षेत्र में पुरुषों से पीछे नहीं है यह तो साफ दिखाई दे रहा है. लेकिन महिलाएं रेसलिंग में भी पीछे नहीं है. सलवार सूट पहनकर रेसलिंग के मैदान में पहलवान को धूल चटाने वाली कविता दलाल ने यह भी साबित कर दिया है. कविता देश की पहली महिला रेसलर बन गई हैं जो कि डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यूई में हिस्सा लेंगी. कविता ने देश की महिलाओं के लिए एक नई नजीर पेश की है. वे युवाओं की आइडल बन गई हैं. आइए कविता दलाल के बारे में जानते हैं कि रेसलिंग की दुनिया में कैसे कदम रखा और इस मुकाम तक कैसे पहुंचीं.

कविता दलाल हार्ड केडी के नाम से मशहूर हरियाणा के जींद जिले की रहने वाली हैं. डब्ल्यूडब्ल्यूई में इनका सिलेक्शन हो चुका है और यहां वे डब्ल्यूडब्ल्यूई के रिंग में 31 पहलवानों से भिड़ेंगी. कविता लगातार चार बार सीनियर नेशनल चैंपियन, नेशनल गेम्स में चैंपियन, साउथ एशियन गेम्स में चैंपियन के अलावा वुशु में भी नेशनल और गेम्स चैंपियन रह चुकी हैं. उन्होंने पिछले महीने महीने दुबई में हुई महिला और ओपन डब्ल्यूडब्ल्यूई चैंपियनशिप में भी अपना दम दिखाया था. इससे पहले वे कॉन्टिनेंटल रेसलिंग इंटरटेनमेंट (सीडब्ल्यूई) में बतौर रेसलर के रूप में धूम मचा चुकी हैं. कई विदेशी पहलवानों को धूल चटा चुकी हैं.

2002 में की शुरूआत
कविता ने वर्ष 2002 में फरीदाबाद में वेट लिफ्टिंग का प्रशिक्षण लेना शुरू किया. वर्ष 2003 में कविता ने प्रशिक्षण के लिए बरेली साईं हॉस्टल में दाखिला लिया. साल 2005 में बीए की पढ़ाई पूरी कर ली. पढ़ाई और ट्रेनिंग के बाद 2008 में कविता ने बतौर कॉन्स्टेबल एसएसबी में नौकरी ज्वाइन की.

वॉलीबॉल खिलाड़ी से की लव मैरिज
रिंग में पहलवानों का धुआं निकालने वाली कविता ने नौकरी लगने के बाद साल 2009 में बड़ौत के रहने वाले गौरव से लव मैरिज की. गौरव भी एसएसबी में कॉन्स्टेबल हैं और वॉलीबॉल के खिलाड़ी हैं. दोनों का एक पांच साल का एक बेटा है. पर कविता ने शादी के बाद भी रेस्लिंग का जुनून नहीं छोड़ा. कविता जालंधर के नंगल शामा में अपने बेटे और ननद के साथ रहती हैं.

छोड़ दी सरकारी नौकरी
2010 में देश में हुए कॉमन वेल्थ गेम्स की तैयारी के लिए कविता ने विभाग से प्रशिक्षण दिलाने की मांग की लेकिन विभाग ने कोई सहयोग नहीं किया. इससे निराश होकर कविता ने नौकरी से त्यागपत्र दे दिया और कविता यूपी स्थित अपनी ससुराल में रहने लगीं। पति गौरव ने कविता को फिर से खेलों के लिए प्रेरित किया। पति से मिले सहयोग के बाद कविता ने फिर से वेटलिफ्टिंग में अपना अभ्यास शुरू कर दिया.

wrestler kavita dalal, theinterview.in

जीवन का टर्निंग प्वाइंट
कविता दलाल के जीवन का सबसे बड़ा टर्निंग प्वाइंट तब आया जब वे अपने बेटे के साथ जून 2016 में जालंधर में खली का रेसलिंग शो देखने गईं. यहां उन्होंने दिल्ली की रेसलर बुलबुल की चुनौती स्वीकार कर सलवार सूट में ही रिंग में कूद गईं. उन्होंने बुलबुल को धूल चटा दी. खली ने कविता की टेक्निक्स को देखकर उन्हें द अपने शो द गे्रट खली रिटर्न शो में आमंत्रित किया. इस शो में उन्होंने अमेरिकी रेसलर नटरिया को धूल चटाई थी. इसके बाद तो कविता रेसलिंग की दुनिया में छा गईं.

wrestler kavita dalal, theinterview.in

बिग बॉस से भी मिला ऑफर
कविता दलाल को बिग बॉस सीजन 10 में भी शामिल होने के लिए ऑफर मिला था लेकिन उन्होंने बिग बॉस के घर के माहौल को देखते हुए इसमें शामिल होने से इनकार कर दिया. कविता से फाइट में देश ही नहीं विदेशी पहलवान भी फाइट से डरते हैं.

डब्ल्यूडब्ल्यूई में सिलेक्ट होने वाली पहली भारतीय महिला बनकर गर्व महसूस कर रही हूं. मुझे उम्मीद है कि मैं यहां भी बेहतर करूंगी और देश की अन्य महिला रेसलर के लिए एक प्लेटफार्म तैयार करने की कोशिश करूंगी.
– कविता दलाल, रेसलर

खबर को लेकर अपनी प्रतिक्रिया कमेंट बॉक्स में दे सकते हैं। अगर खबर पसंद आई हो तो इसे शेयर जरूर करें।

ये भी पढ़ें:

M.P. GK: प्रदेश का पहला मोबाइल बैंक कहां स्थित है

Techno Update: आप जानते हैं विश्व में इंटरनेट स्पीड का कौन सा देश है बादशाह?

‘सराहा’ ने लोगों को बनाया दीवाना, सिर्फ तीन लोग मिलकर चला रहे एप्प

Like and share
2