Like and share
4

नई दिल्ली.
अभी तक तो कहा जाता था कि डॉलर और पाउंड ही सबसे महंगी और पॉवरफुल करंसी होती हैं, लेकिन अब ऐसा नहीं है. एक और ऐसी करंसी है जिसकी कीमत इससे कई गुना ज्यादा लाखों में हैं. जी हां, जहां एक डॉलर की कीमत 64 रुपये है और एक पाउंड की कीमत 86 रुपये है वहीं एक ऐसी करंसी है जिसकी एक सिक्के की कीमत 6 लाख रुपये से भी ज्यादा है. हैरान रह गए ना, लेकिन ये सच है. अगर आप भी इस करंसी का एक सिक्का खरीदना चाहत हैं तो आपको लाखों रुपये खर्च करने पड़ेंगे. आइए जानते हैं इस करंसी के बारे में.

इस करंसी का नाम है बिटक्वाइन, जिसके खरीदने के लिए कई अरबपती लाइन में खड़े हैं. लेकिन आपको बता दें ये किसी देश की करंसी नहीं है बल्कि ये एक डिजिटल करंसी है. जो किसी कानून के दायरे में नहीं आती. इस सिक्के का इस्तेमाल सिर्फ ऑनलाइन ही हो सकता है. इसमें बैंक के लेनदेन, ट्रांसफर, डायरेक्ट ट्रांजैक्शन, ऑनलाइन शॉपिंग के लिए होता है.

बढ़ती जा रही है इसकी कीमत
पहले आपको बताते चलें कि बिटक्वाइन एक तरह की डिजिटल करंसी है. इसे इलेक्टॉनिक तरीके से बनाया जाता है. ये क्वाइन किसी के हाथ में नहीं बल्कि इलेक्टॉनिक तरीके से ही रखा जाता है. रुपये की तरह इसकी छपाई नहीं होती. इसे कम्प्यूटर के जरिए ही बनाया जाता है और काफी सेफ तरीके से रखा जाता है.

कैसे किया जा सकता है काम
कुछ दिनों पहले साइबर अटैक हुआ था. जिसके बाद साइबर हमलावरों ने सिस्टम की फाइलों को फिर से अनलॉक करने के लिए 300 डॉलर बिटक्वाइन की मांग की थी. बिटक्वाइन का इस्तेमाल इसी तरह होता है. दूर बैठे अगर किसी ने ऑनलाइन हल निकाल लेता है तो उसे बिटक्वाइन मिलते हैं. बिटक्वाइन को पैसों के जरिए भी खरीदा जा सकता है और लगातार इसकी कीमत बढ़ती जा रही है.

रिजर्व बैंक ने नहीं दी बिटक्वाइन की मान्यता
बिटक्वाइन बाहरी देशों में खूब चल रहा है. लेकिन रिजर्व बैंक ने अभी तक बिटक्वाइन को मान्यता नहीं दी है. लेकिन भारत डिजिटल करेंसी लाने का विचार कर रहा है. सरकार लक्ष्मी नाम से वर्चुअल करंसी लाने का विचार कर रही है.

ये भी पढ़ें:

देश की पहली जिमनास्ट लीग 27 मार्च से

G.K. Important question

MPPSC: 202 पदों के लिए 18 फरवरी को होगी प्रारंभिक परीक्षा

Like and share
4